ताज़ा गीत- love Story

13.7.08

जाग उठा है आज के हिंद का युवा ...

बढ़े चलो, मन्त्र है विश्ववास का,
बढ़े चलो, आह्वाहन है एक नए युग की बुनियाद का,
सुनो शंख नाद, जाग उठा है, आज के हिंद का युवा,
बुलंद करने को सशक्त शब्दों में आवाज़ अपनी -
परहेज नही, इनकार नही, निज भाषा से आज उसे,
मोहताज नही, दरकार नही, परभाषा की आज उसे,
उसे नाज़ है अपने वजूद पर, अपने संस्कारों पर,
उसकी जीत सुनिश्चित है, उसका नारा अचूक है -

बढ़े चलो..... बढ़े चलो......


A patriotic Song

( " बढ़े चलो " की गूँज सुनने के लिए,उपरोक्त पोस्टर पर क्लिक करें )



9 टिप्‍पणियां:

Advocate Rashmi saurana ने कहा…

bhut badhiya hai.

महेंद्र मिश्रा ने कहा…

bahut sundar abhivaykti hai. desh ke noujawano badhe chalo. achchi rachana badhai.

प्रभाकर पाण्डेय ने कहा…

सुंदरतम अभिव्यक्ति।

राज भाटिय़ा ने कहा…

मेने आगे जा कर यह पुरा गीत सुना.. आज के हिंद का युवा हू...,सच मे सुभाष चन्द्र जी की याद आ गई मेने उन्हे टीवी पर कई देखा हे, सुना हे, बहुर ही सुन्दर ओर जीवन से भरपुर गीत हे,

अंगूठा छाप ने कहा…

blog ka naam achha hai bhaisaahab

Smart Indian ने कहा…

बहुत सुंदर. "एक याद" तो बहुत ही अच्छी लगी.

Ravi ने कहा…

Hello Sanjeev ji,

As an opportunity, I saw your great Blog and I have no words to comments that you have written with just a good sense of literature and you used your words where they should be used.
Really i like it and desirous to get your all new creations. Please add my e-mail : ravibhuvns@gmail.com . and if you take it easy, i would also like to add your e-mail address so that i would get your valuable comments on my new creations.

Awaiting an early reply....

...Ravi
http://mere-khwabon-me.blogspot.com/
http://ravi-yadein.blogspot.com/

शहरोज़ ने कहा…

pahli bar idhar aana saarthak hi hua.
bahut sukhad ehsaas se pulkit kar deti hain aapki rachnayein.
sampark bana rahe ham-sab ka,
aap aisa hi likhte-gungunate rahen
yahi dua hai

परमजीत बाली ने कहा…

bahut badhiyaa!