ताज़ा गीत- love Story

18.4.08

सुलगता दर्द ( कश्मीर )

उन खामोश वादियों में,
किसी शांत सी झील पर,
जब लुढ़क कर गिरता है,
कोई पत्थर, किसी पहाडी से,
तो उसे लगता है-
कहीं बम फटा...
वह दोनों कानों पर हाथ रखकर,
चीखता है , और सहम कर सिमट जाता है,
अपने अंधेरों में,
अंधेरे - जो पाले हैं उसने,
अपनी आखों में,
अंधेरे - जो बहते हैं उसकी रगों में,
उसकी बंद ऑंखें,
कभी खुलती नही रोशनी में,
एक बार देखी थी, उजाले में मैंने,
वो ऑंखें,
"ऐ के ४७" की गोलियों के सुराख थे उसमें,
धुवाँ सा जल रहा था,
उस पथरीली जमीं पर,
कोई लहू का कतरा न था,
मगर कल रात जब वो,
कुरेद रहा था मिटटी,
मसल रहा था फूल पत्तियों को,
बेदिली से तब,
हाँ तब... उसकी उन आखों से बहा था,
खौलते लावे सा,
गर्म "सुलगता दर्द..."

9 टिप्‍पणियां:

Harihar ने कहा…

कुरेद रहा था मिटटी,
मसल रहा था फूल पत्तियों को,
बेदिली से तब,
हाँ तब... उसकी उन आखों से बहा था,
खौलते लावे सा,
गर्म "सुलगता दर्द..."

बहुत खूब संजीव जी !

rakhshanda ने कहा…

bahot khoobsoorat lekin ek dard de gayi ye nazm...

Divya Prakash ने कहा…

बहुत अच्छे भाव हैं संजीव जी .... सही मैं ये ऐसा दर्द है जो लगातार सुलग रहा है और कितने ही मासूम जल रहे हैं ...ऐसे ही संवेदनशील मुद्दे अपनी संवेदनशील लेखनी से उठाते रहिये !!
दिव्य प्रकाश

अभिषेक ओझा ने कहा…

दर्द को समेटे हुए बेहतरीन लाइने हैं...

अतुल ने कहा…

बहुत दर्दनाक. कश्मीर पर सुंदर कविता.

anitakumar ने कहा…

सजीव जी बहुत ही संवेदनशील,सशक्त और सार्थक कविता आप की कलम से। हमारी अपेक्षाओं पर खरी उतरी। बहुत सुंदर

muskan ने कहा…

khoobsurat par dard se bhari

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन भाई.

DR.ANURAG ARYA ने कहा…

उसकी बंद ऑंखें,
कभी खुलती नही रोशनी में,
एक बार देखी थी, उजाले में मैंने,
वो ऑंखें,
"ऐ के ४७" की गोलियों के सुराख थे उसमें

पूरी रचना अपने आप मे मुकम्मल है ओर कही गहरे तक असर छोड़ जाती है.......