ताज़ा गीत- love Story

22.3.12

उँगलियाँ

उँगलियाँ किसी पर भी उठा देते हैं लोग बस,
बात को बातों में ही, उड़ा देते हैं लोग बस

चाय में डालकर अखबार को पी जाते हैं,
मुद्दा कोई गुफ्तुगू का जुटा लेते हैं लोग बस

गर अपने आले में जलाने को दीया नहीं,
तेल दूजे के घर का भी चुरा लेते है लोग बस

दर्द किसी के दिल का सुनकर अक्सर,
मिसालें चंद वैसी ही गिना देते है लोग बस

कोई टिप्पणी नहीं: